Today Haryana

चाचा अभय चौटाला व भतीजे दिग्विजय का हुआ आमना- सामना, बहरूपिया के नाम पर छिड़ी जुबानी जंग

इसकी शुरुआत जजपा नेता दिग्विजय चौटाला द्वारा भाजपा-जजपा गठबंधन समन्वयक मीनू बेनीवाल को बहुरूपिया कहने से हुई थी।

चाचा अभय चौटाला व भतीजे दिग्विजय का हुआ आमना- सामना, बहरूपिया के नाम पर छिड़ी जुबानी जंग
X

हरियाणा की राजनीतिक में चर्चित चौटाला परिवार में चाचा अभय चौटाला और भतीजे दिग्विजय चौटाला में इन दिनों बहुरूपिया के नाम पर जुबानी जंग चल रही है। इसकी शुरुआत जजपा नेता दिग्विजय चौटाला द्वारा भाजपा-जजपा गठबंधन समन्वयक मीनू बेनीवाल को बहुरूपिया कहने से हुई थी। जिसके बाद इस पर अभय चौटाला ने चुटकी लेते हुए कहा कि उनके घर में 1 ओर बहुरूपिया हैं, जिनका अभी अजय सिंह को पता नहीं है।

अब एक बार फिर से दिग्विजय चौटाला ने अभय चौटाला को जवाब देते हुए कहा कि वो हमारी चिंता ना करें। हमें अपनी चिंता खुद है। उनके जहां 2-4 बहुरुपिया हैं और हमारे से ज्यादा संख्या में है। सारी चीजों का समाधान और अपने वाले बहुरूपिया का हम कर लेंगे। वो कहेंगे तो मैं एक बंद चिट्‌ठी मीडिया के माध्यम से उनके पास भिजवा दूंगा। सार्वजनिक रूप से तो यह अच्छा नहीं लगेगा।

मीनू बेनीवाल को दिग्विजय ने कहा था बहुरूपिया

आदमपुर उपचुनाव के दौरान सिरसा में जजपा नेता दिग्विजय चौटाला ने मीनू बेनीवाल का जजपा से कोई लेना- देना न होने की बात कही थी। दिग्विजय चौटाला ने कहा था कि उनके जैसे बहुरूपियों से हमारा कोई लेना देना नहीं है। जबकि मीनू बेनीवाल की भाजपा-जजपा गठबंधन करवाने में अहम भूमिका मानी जाती है

हालांकि मीनू बेनीवाल ने दिग्विजय के बयान पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। मीनू बैनीवाल और अजय चौटाला पुराने मित्र है।

विधानसभा चुनाव 2019 से पहले दो पार्टियों में बंट गया था चौटाला परिवार

इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला द्वारा अजय चौटाला के बेटे दुष्यंत और दिग्विजय को पार्टी से निकाले जाने के बाद उन्होंने जजपा का गठन कर लिया। जजपा ने विधानसभा चुनावों में 10 सीटें जीती और गठबंधन में सरकार बनाई। जबकि इनेलो को इस चुनाव में 1 ही सीट मिली। इनेलो की कमान अब अभय चौटाला के पास है।


Next Story
Share it