ग्रामीण चौकीदारों को हरियाणा सरकार का तोहफा, बढाई गयी तनख्वाह; 12% EPF भी मिलेगा

Mukesh Gusaiana
4 Min Read
Haryana Gramin Chowkidaar News

झलको हरियाणा, चंडीगढ़: हरियाणा के पंचायत विभाग के अंतर्गत सेवानिवृत्ति पर काम करने वाले प्रदेश के लगभग सात हजार ग्रामीण चौकीदारों को प्रदेश सरकार ने एक महत्वपूर्ण आरामदायक कदम उठाया है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने इन ग्रामीण चौकीदारों की मासिक वेतन में बड़ी वृद्धि की है, जिससे उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। उन्होंने इन चौकीदारों की मासिक वेतन को सात हजार से बढ़ाकर 11,200 रुपये कर दिया है।

पहले, इन ग्रामीण चौकीदारों को मासिक तौर पर 3500 रुपये की वेतन मिलती थी, जिसे 2018 में मुख्यमंत्री ने सात हजार रुपये में बढ़ा दिया था। अब, प्रदेश सरकार ने इन चौकीदारों को 12 प्रतिशत ईपीएफ का भी आदान-प्रदान किया है, जिससे उनके भविष्य की आर्थिक सुरक्षा में मदद मिलेगी। ईपीएफ की यह राशि प्रदेश सरकार उनके खातों में जमा करेगी, जो उनके आर्थिक सामर्थ्य को और भी मजबूती देगा।

जंतर मंतर पर किया था कूच

मुख्यमंत्री मनोहर लाल के राजनीतिक सचिव कृष्ण कुमार बेदी की मध्यस्थता के चलते हरियाणा ग्रामीण चौकीदार सभा के पदाधिकारियों की मुख्यमंत्री मनोहर लाल से उनके निवास पर बातचीत हुई। इन चौकीदारों ने अपनी करीब एक दर्जन मांगों को लेकर नई दिल्ली में जंतर मंतर पर कूच किया था, जिसके बाद मुख्यमंत्री ने पूर्व मंत्री कृष्ण कुमार बेदी को इन ग्रामीण चौकीदारों से वार्ता करने की जिम्मेदारी सौंपी थी। कृष्ण बेदी पहले भी मिर्चपुर कांड और जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान आंदोलनों को खत्म कराने में अहम भूमिका निभा चुके हैं।

वर्दी भत्ता भी बढ़ाया

मुख्यमंत्री ने ग्रामीण चौकीदारों (Gramin Chowkidar News) का वर्दी भत्ता भी 2500 रुपये से बढ़ाकर 4000 रुपये कर दिया गया है। पहले ग्रामीण चौकीदारों को पूरे ड्यूटी समय में एक बार साइकिल मिलती थी, जो अब हर पांच साल के बाद नई साइकिल मिला करेगी। ड्यूटी करते हुए मृत्यु होने की स्थिति में ग्रामीण चौकीदारों के परिजनों को कोई मुआवजा राशि नहीं मिलती थी, लेकिन मानवीय दृष्टिकोण अपनाते हुए मुख्यमंत्री ने 25 से 40 साल की आयु के ग्रामीण चौकीदार की मृत्यु होने पर उसके परिजनों को पांच लाख रुपये की मदद देने की घोषणा की। यदि 40 से 60 वर्ष की आयु के ग्रामीण चौकीदार की मृत्यु होती है तो परिवार को तीन लाख रुपये की आर्थिक मदद दी जाएगी।

सीएम के राजनीतिक सचिव कृष्ण कुमार बेदी ने बताया कि रिटायरमेंट पर ग्रामीण चौकीदारों को अब कम से कम दो लाख रुपये मिला करेंगे। पहले कोई राशि नहीं दीजाती थी। जन्म-मृत्यु दर्ज करने के स्टेशन पर 300 रुपये की बजाय ग्रामीण चौकीदारों को अब 400 रुपये मिलेंगे।

मुख्यमंत्री ने पंचायत विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि हर माह की सात तारीख को ग्रामीण चौकीदारों को वेतन मिलना सुनिश्चित किया जाए। इसमें देरी स्वीकार नहीं की जाएगी। सीएम से मिलने वाले पदाधिकारियों में ग्रामीण चौकीदार सभा के प्रधान बुधराम, महासचिव दीपक समालखा, उपाध्यक्ष सोनू नरवाना और कोषाध्यक्ष महीपाल बालू शामिल हैं।

Share This Article
Follow:
मुकेश गुसाईंना (Mukesh Gusaiana) किसान केसरी में सीनियर एडिटर और इसके सस्थापक हैं. डिजिटल मीडिया में 9 साल से काम कर रहे हैं. इससे पहले जनता टाइम पर अपनी सेवाएं दे रहे थे, इन्होने अपने करियर की शुरूआत चौपाल टीवी में कंटेंट राइटिंग से की और पिछले कई सालों से लगातार ऊँचाइयों को छूते जा रहे हैं ।
Leave a comment