Today Haryana

कहीं आप भी तो नहीं खा रहे प्लास्टिक के चावल, ऐसे पहचाने नकली चावल को इस आसान तरीके के साथ

आप आसानी से असली और नकली चावल की पहचान कर सकेंगे

कहीं आप भी तो नहीं खा रहे प्लास्टिक के चावल, ऐसे पहचाने नकली चावल को इस आसान तरीके के साथ
X

प्लास्टिक के चावल या नकली चावल आपकी सेहत को तो नुकसान पहुंचाता है, वहीं ये कैंसर जैसी खतरनाक बीमारियों को कारण भी बनता है. आप ये बात सुनकर हैरान हो सकते हैं, लेकिन ये सच है. आज हम आपको ऐसा तरीका बताने जा रहे हैं, जिससे आप आसानी से असली और नकली चावल की पहचान कर सकेंगे. इस लेख को पढ़ने के बाद आप थोड़ी ही देर में नकली चावल को अलग कर सकेंगे.

बासमती चावल (Basmati Rice Identification) में खुशबू ही इतनी आती है कि उसे ऐसे ही समझाा जा सकता है. इसकी खेती भारत, पाकिस्तान और नेपाल में होती है. आपको बता दें कि ये चावल महीन होता है, साथ ही खुशबू के साथ पारदर्शी और चमकदार भी होता है. जब इसे पकाया जाता है तो ये बनने के बाद इसकी लंबाई दोगुना हो जाती है. इस चावल की खासीयत ये है कि पकने के बाद ये चावल चिपकता नहीं है, बल्कि हल्का सा फूल भी जाता है. इस विशेषता की वजह से इसे देश भर में पसंद किया जाता है.

चूने से पता चलेगा असली और नकली का

चूने से भी नकली चावल की पहचान की जा सकती है. इसके लिए चावल के कुछ सैंपल एक बर्तन में रख लें. इसमें थोड़ा सा चूना यानी लाइम और पानी मिलाकर एक घोल तैयार कर लें. अब इस घोल में चावलों को भिगो दें और कुछ देर के लिए छोड़ दें. कुछ समय बाद, चावल का रंग बदल जाता है या ये रंग छोड़ दे तो समझिए कि ये चावल नकली है.

प्लास्टिक के चावल की ऐसे करें पहचान

1. थोड़े से चावल को आग में डाल दें, जलते समय उस चावल की गंध प्लास्टिक के जलने जैसी आए तो समझें कि ये प्लास्टिक के चावल हैं.

2. अगर प्लास्टिक के चावल उबलने के बाद कंटेनर के ऊपरी हिस्से में मोटी परत की तरह नजर आने लगे तो समझिए कि ये चावल नकली है.

3. अगर नकली चावल को खाने वाले गर्म तेल में डाला जाए तो यह पिघलना शुरू हो जाते हैं.

4. नकली चावल पानी में डालने पर तैरने लगता है.

5. इसके अलावा आप ये तरीका भी अपना सकते हैं कि चावल पकाने के बाद उसे कुछ दिनों तक ऐसे ही छोड़ दें, अगर वह चावल प्लास्टिक का होगा तो बदबू नहीं करेगा क्योंकि यह सड़ता नहीं है.

Next Story
Share it