Haryana Sarpanch Protest : हरियाणा में सरपंचों ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल और मंत्री देवेंद्र बबली के फूंके पुतले, बीडीपीओ कार्यालय में भी लटका रहा ताला 

नाथूसरी चौपटा में सरपंचों ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल और मंत्री देवेंद्र बबली के फूंके पुतले
बीडीपीओ कार्यालय नाथूसरी कलां में सोमवार को भी लटका रहा ताला
Today Haryana। Sirsa। Sandeep Verma। Haryana Sarpanch Protest

सिरसा। ई टेंडरिंग के विरोध में नाथूसरी चौपटा बीडीपीओ कार्यालय प्रांगण में सरपंच एसोसिएशन का धरना सोमवार को भी जारी रहा ।  इस दौरान सरपंचों ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल और मंत्री देवेंद्र बबली के पुतले फूंक कर रोष जताया। लगातार आठवें दिन बीडीपीओ कार्यालय के कमरों पर ताले लटके रहे। सरपंचों ने सरकार के खिलाफ जबरदस्त नारेबाजी की और मुख्यमंत्री मनोहर लाल मुर्दाबाद, देवेंद्र बबली मुर्दाबाद के नारे लगाए।

खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी कार्यालय नाथूसरी चौपटा में सोमवार को हरियाणा प्रदेश सरपंच एसोसिएशन के उपप्रधान संतोष बैनीवाल के नेतृत्व में इ टेंडरिंग के विरोध में चल रहे धरने पर सरपंचों नहीं सरकार को जमकर कोसा। संतोष बैनीवाल ने कहा कि सरकार को ई टेंडरिंग के फैसले को जल्द वापस लेना चाहिए। सरकार को अपना फैसला बदलना ही होगा।  अगर फैसला नहीं बदलेगी तो 2024 के चुनाव में इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा।
सरपंच रीटा कासनियां ने कहा कि जब तक सरकार ई टेंडरिंग के तुगलकी फरमान को वापस नहीं लेगी तब तक धरना जारी रहेगा। सरपंच रविल सिंवर ने कहा कि इस सरकार से हर वर्ग दुखी है, और अब जनता द्वारा चुने हुए सरपंचों के साथ अन्याय कर रही है। इस दौरान सरपंचों ने सरकार के खिलाफ जबरदस्त नारेबाजी करते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल और मंत्री देवेंद्र बबली के पुतलों की शव यात्रा निकाली और कार्यालय के बाहर ले जाकर पुतले फूंक दिए।
इस मौके पर सरपंच सुभाष कासनियां माखोसरानी, संदीप बैनीवाल गिगोरानी, रीटा कासनियां, समेस्ता, किरण, कांता देवी, नरसी, कविता, सुनील कुमार, मंजू रानी, राजेंद्र, रघुवीर सिंह, मंजू बाला, रोशनी, विनोद कुमारी, राकेश कुमार, प्रोमिला देवी, सुरेश कुमार, रूपेश कुमार, सोमवती, सुभाष चंद्र, राजेश, सोनू, दौलतराम,   कविता रानी, निशा, सरला देवी, सुभाष सिंह, रविता, सुनीता कुमारी, उदयपाल, रचना रानी, राजकुमार,  ओम प्रकाश, नीतू, कमला देवी, सीमा रानी, ममता, रविल सिवर सहित खंड के सभी सरपंच सरकार के खिलाफ गरजे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *