हरियाणा के सिरसा में 50 हजार एकड़ जमीन को सेम से मिलेगी निजात, कृषि मंत्री ने किया बड़ा ऐलान

Today Haryana. Sirsa
चौपटा क्षेत्र को सेम से निजात दिलाने के लिए कृषि मंत्री ने किया भूमि सुधार प्रोजेक्ट का शुभारंभ
सरकार का लक्ष्य है अगले साल तक 50 हजार एकड़ जमीन को सेम से निजात दिलाना
सिरसा | सिरसा कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री जयप्रकाश दलाल कहा कि नाथूसरी चौपटा क्षेत्र में सेम की समस्या से निजात दिलवाने के लिए सेम ग्रस्त भूमि सुधार प्रोजेक्ट के माध्यम से सेम की समस्या से निजात दिलाई जाएगी। प्रदेश सरकार द्वारा सेम ग्रस्त भूमि सुधार प्रोजेक्ट को अपनाया गया है, प्रदेश में अब तक प्रदेश में 25 हजार एकड़ भूमि कार्य किया जा चुका है।

हरियाणा के सिरसा में 50 हजार एकड़ जमीन को सेम से मिलेगी निजात, कृषि मंत्री ने किया बड़ा ऐलान

इसके तहत सोलर लाइट के साथ ट्यूबवेल लगाकर पानी की निकालकर सीधे ड्रेन में डाला जाता है, इससे भूमि में पानी का स्तर नीचे चला जाता है। वे नाथूसरी चौपटा में सेम ग्रस्त भूमि सुधार प्रोजेक्ट के तहत लगाए गए प्लांट का उद्घाटन करने उपरांत संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सेम ग्रस्त भूमि सुधार प्रोजेक्ट से जो किसान सालों से अपनी भूमि में खेती नहीं कर पा रहे थे वे किसान अब अपनी भूमि में फसल की बिजाई कर रहे हैं। प्रदेश में इस बार 20 हजार एकड़ से अधिक सेम वाली भूमि में किसानों ने फसल बिजाई की हैं।
सरकार का लक्ष्य है कि अगले साल तक 50 हजार सेम वाली भूमि से इस समस्या का ठीक किया जाए। प्रदेश में सात से आठ लाख एकड़ भूमि सेम वाली है, इस सारी भूमि को ठीक करवाया जाएगा और किसानों को दोबारा मौका दिया जाएगा ताकि वे अपनी आमदनी को बढ़ा सके। सरकार उद्देश्य किसान की समस्याओं का दूर करना और उनका आर्थिक उत्थान करना है।

हरियाणा के सिरसा में 50 हजार एकड़ जमीन को सेम से मिलेगी निजात, कृषि मंत्री ने किया बड़ा ऐलान

नाथूसरी चैपटा में अब तक इस तरह के 50 के करीब ट्यूबवैल लग चुके हैं और सरकार का लक्ष्य है कि लगभग 150 ट्यूबवेल लगाए जाएं। एक ट्यूबवेल की कैपेसिटी लगभग 80 से 100 एकड़ तक की होती है और ये जमीन का पूरा पानी समाप्त कर देते हैं। इस अवसर पर कृषि मंत्री ने किसानों से मुलाकात की और कहा कि सरकार द्वारा किसान हित में योजनाएं चलाई जा रही है, सरकार का मानना है कि यदि किसान का उत्थान होगा तो देश का उत्थान होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *