Haryana Revenue Department: हरियाणा में राजस्व विभाग में होगा बड़ा बदलाव, राजस्व विभाग से हटेंगे उर्दू-फारसी शब्द, जमीनों से जुड़े कानूनों में होगा संशोधन

Today Haryana. चंडीगढ़: राजस्व विभाग में प्रचलित उर्दू और फारसी के रकबा, इंतकाल, खेवत, फर्द, बदर, मौजा, मुसावी, बिस्वा, उर्दू इंद्राज शब्द अब हरियाणा मैं इतिहास बनने वाले हैं। क्योंकि अब राजस्व विभाग में ऐसे कठिन शब्दों को हटाकर आसान शब्द शामिल किए जाएंगे। जमीनों का रिकॉर्ड भी आधार या पीपीपी के अनुसार तैयार किया जाएगा। सरकार जमीनों से जुड़े कानूनों के बदलाव या संशोधन की भी तैयारी कर रही है। इस प्रकार महकमे के पूरे सिस्टम को दुरुस्त करने के लिए रेवन्यू कमीशन का गठन किया जाएगा। इसके पहले चेयरमैन रिटायर्ड आईएएस वीएस कुंडू होंगे। सरकार ने इसकी अपनी फाइल प्रक्रिया पूरी कर ली है। कमीशन 6 माह में ऐसे तमाम बिंदुओं को लेकर सुझाव समेत मुख्यमंत्री को रिपोर्ट देगा। इसके अलावा समय- समय पर भी कमीशन सरकार को सुझाव दे सकेगा। कुंडू 31 दिसंबर को ही राजस्व विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पद से रिटायर हुए हैं। उन्हें जिम्मेदारी दी जाएगी कि किस प्रकार से सिस्टम को ठीक किया जा सकता है।

Haryana Revenue Department: हरियाणा में राजस्व विभाग में होगा बड़ा बदलाव, राजस्व विभाग से हटेंगे उर्दू-फारसी शब्द, जमीनों से जुड़े कानूनों में होगा संशोधन

कमीशन इन मामलों में सुधार – बदलाव को लेकर देगा रिपोर्ट

• फारसी व उर्दू के शब्दों की जगह आसान शब्द कमीशन बताएगा। लैंड रिकॉर्ड को नए सिरे से अपडेट किया जाएगा। आधार या पीपीपी के साथ कैसे जोड़ा जाए, यह भी रिपोर्ट में शामिल होगा • जमीनों से संबंधित कोर्ट केस और विकसित जमीन का डेटा भी तैयार होगा। ताकि एक क्लिक में पता लगे कि किस जमीन पर कोर्ट केस, कौनसी जमीन खाली है और कौन सी जमीन विकसित हो चुकी है।

Haryana Revenue Department: हरियाणा में राजस्व विभाग में होगा बड़ा बदलाव, राजस्व विभाग से हटेंगे उर्दू-फारसी शब्द, जमीनों से जुड़े कानूनों में होगा संशोधन

• प्रदेश में कलेक्टर रेट तय करने का भी अभी कोई विशेष फार्मूला नहीं है। इसलिए यह भी कमीशन बताएगा कि किस प्रकार से कलेक्टर रेट तय किए जाएं। इसकी क्या प्रक्रिया हो सकती है। सरकार जमीनों का सरकारी रेट भी बढ़ा सकती है। • जमीन की पैमाइश के लिए नई तकनीकी शामिल की जाएगी ताकि पूरा सिस्टम बन सके और काम जल्द हो। इसके लिए कोर्स एंड रोवर्स तकनीक पर सरकार जाएगी। जमीनों के नक्शे अपडेट करने की जिम्मेदारी कमीशन को दी गई है।

Haryana Revenue Department: हरियाणा में राजस्व विभाग में होगा बड़ा बदलाव, राजस्व विभाग से हटेंगे उर्दू-फारसी शब्द, जमीनों से जुड़े कानूनों में होगा संशोधन

जीआईएस बेस्ट तकनीकी का इस्तेमाल कर जमीनों की चकबंदी कैसे की जा सकती है। रजिस्ट्री सिस्टम को प्रभावी कैसे बनाया जाए। फिल्ड अफसरों को किस प्रकार से ट्रेनिंग दी जाए। उन्हें आधुनिक सिस्टम से कैसे जोड़ा जा सकता है।

यह भी जानिए…..

देश में 16वीं सदी में मुगलों के समय उर्दू व फारसी के शब्द राजस्व विभाग में आए थे। तब अकबर के राजस्व मंत्री राजा टोडरमल ने इन शब्दों को शामिल किया था। लेकिन अब उर्दू व फारसी के शब्द आम लोग ही नहीं अफसरों को भी समझ नहीं आ रहे हैं। अधिकारी रिटायर्ड कर्मचारी का सहयोग इन्हें समझने के लिए ले रहा है।

Haryana Revenue Department: हरियाणा में राजस्व विभाग में होगा बड़ा बदलाव, राजस्व विभाग से हटेंगे उर्दू-फारसी शब्द, जमीनों से जुड़े कानूनों में होगा संशोधन

इधर, 11 दिनों के बाद भी एफसीआर की नियुक्ति नहीं

एफसीआर वीएस कुंडु के रिटायर होने के बाद अभी तक किसी को इस पद पर नहीं लगाया है। एफसीआर के लिंक अफसर होम सेक्रेट्री टीवीएसएन प्रसाद ही यह काम देख रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *