हरियाणा में सरपंचों ने बीडीपीओ दफ्तरों पर जड़े ताले मुख्यमंत्री बोले, पीछे नहीं हटेगी सरकार, प्रदेशभर में धरने शुरू

प्रदेशभर में धरने शुरू, मंत्री से बात करने से इन्कार, सीधे राज्यपाल को ज्ञापन सौंपे जाएंगे

Today Haryana. Hisar

हिसार। ई टेंडरिंग के विरोध में सरपंचों व पंचों ने सोमवार को बीडीपीओ कार्यालयों पर ताले जड़कर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की दूसरी ओर रेवाड़ी में सरपंचों विरोध को बीडीपीओ दो दरकिनार करते हुए घंटे बंद रहे मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने स्पष्ट कर दिया है कि सरकार पीछे हटने वाली नहीं है। उन्होंने कहा कि पंचायती राज संस्थाओं की शक्तियों को कम नहीं किया है, बल्कि उनका विकेंद्रीकरण किया है।

हरियाणा में सरपंचों ने बीडीपीओ दफ्तरों पर जड़े ताले मुख्यमंत्री बोले, पीछे नहीं हटेगी सरकार, प्रदेशभर में धरने शुरू

इससे पूर्व सरपंचों के फैसले से पंचायत मंत्री देवेंद्र बबली के तेवर नरम पड़ गए थे। उन्होंने सोशल मीडिया पर वीडियो व संदेश जारी कर सरपंचों को समझाने का प्रयास करते हुए सुझाव भी मांगे। सरपंचों ने विरोध के तेवर दिखाते हुए पंचायत मंत्री से बात करने से इन्कार कर दिया है एलान के मुताबिक जनप्रतिनिधि सबह ही इकटठा होने लगे। इसके बाद प्रदेशभर में बीडीपीओ कार्यालयों पर ताले जड़ने शुरू किए।

रेवाड़ी के नाहड़ में दो घंटे तक बीडीपीओ अंदर कार्यालय में ही बंद रहे। वहीं हिसार जोन के पांच जिलों में 11 जगह बीडीपीओ कार्यालयों पर ताले जड़े गए। कहीं आधा तो कहीं तीन घंटे तक ताला लगा रहा। सरपंचों और पंचों ने ऐलान किया किया कि जब तक उनकी मांगें नहीं मानी जाएंगी तब तक आंदोलन जारी रहेगा। गांव समैन के सरपंच रणवीर गिल ने कहा कि पंचायत मंत्री ने सरपंचों का अपमान किया है, इसलिए उनके साथ कोई बातचीत नहीं करेंगे। प्रदेश स्तरीय कमेटी का गठन कर राज्यपाल को ज्ञापन सौंपे जाएंगे।

हरियाणा में सरपंचों ने बीडीपीओ दफ्तरों पर जड़े ताले मुख्यमंत्री बोले, पीछे नहीं हटेगी सरकार, प्रदेशभर में धरने शुरू

कुछ नेता राजनीति कर रहे : सीएम 

चंडीगढ़। ई टेंडरिंग को लेकर सीएम मनोहर लाल ने कहा कि कुछ नेता राजनीति कर रहे हैं। जो सही नहीं है। हमें यकीन है कि हमारी पंचायतें ऐसे नेताओं की राजनीति अपने ऊपर हावी नहीं होने देंगी। आज के आईटी के युग में हर व्यवस्था ऑनलाइन हो रही है। हरियाणा में अब पढ़ी-लिखी पंचायतें हैं और आईटी का प्रयोग करना जानती हैं। ये पंचायतों अफसरों से काम करवाने में सक्षम है।

हरियाणा में सरपंचों ने बीडीपीओ दफ्तरों पर जड़े ताले मुख्यमंत्री बोले, पीछे नहीं हटेगी सरकार, प्रदेशभर में धरने शुरू

मंत्री की सफाई : जनप्रतिनिधियों की ताकतों में बदलाव नहीं किया

चंडीगढ़। ई टेंडरिंग को लेकर चौतरफा हो रहे। विरोध के बीच पंचायत मंत्री देवेंद्र बबली ने सफाई देनी पड़ी है। बबली ने कहा कि सरपंचों की तरह वह भी एक जनप्रतिनिधि है और जनता के सेवक हैं। बबली ने कहा कि जनप्रतिनिधि की ताकतों में कुछ भी बदलाव नहीं किया है। सिर्फ प्रणाली को बदला गया है। पहले काम मैनुअली होते थे, अब एक सॉफ्टवेयर के जरिये होंगे। सभी कार्यों की जवाबदेही सरपंच, ग्राम सचिव, एसडीओ और एक्सईएन की होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *