हरियाणा में अब शराब पीकर एंबुलेंस चलाई तो सीधे टर्मिनेट होंगे ड्राइवर, सरकार ने दिखाई सख्ती

एनएचएम हरियाणा ने रेफर होने वाले रोगियों की सुरक्षा के मद्देनजर उठाया कदम

Today Haryana। Chandigarh। 

चंडीगढ़ : अब शराब पीकर एंबुलेंस चलाने वाले चालकों को सीधे टर्मिनेट किया जाएगा। यह आदेश एनएचएम (राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन) हरियाणा ने रेफर होने वाले रोगियों की सुरक्षा के मद्देनजर उठाया है। बाकायदा सभी सिविल सर्जनों को पत्र जारी करके एलकोसेंसर के मार्फत किसी भी समय एंबुलेंस चालक और ईएमटी (इमरजेंसी मेडीकल टेक्निशियन) की चेकिंग के निर्देश जारी किए हैं ताकि धुंध के दिनों में होने वाले हादसों को रोका जा सके।

बल्कि रोगी की जानमाल की भी सुरक्षा की जा सके। जिलास्तर पर अधिकारियों को निगरानी में एक टीम काम करेगी, जो एंबुलेंस चालकों और ईएमटी पर नगर रखेगी। विभाग द्वारा पहले यह भी आदेश जारी किए गए हैं कि यदि कोई एंबुलेंस चालक मरीज छोड़ने के बाद ढाबे या अन्य जगह खड़ा होकर समय जाया करता पाया गया तो उसका भी एक दिन का वेतन काटा जाएगा।

हरियाणा में अब शराब पीकर एंबुलेंस चलाई तो सीधे टर्मिनेट होंगे ड्राइवर, सरकार ने दिखाई सख्ती

• एनएचएम ने सभी सिविल सर्जन को रेंडमली चेकिंग के दिए निर्देश

 एल्कोसेंसर के मार्फत किसी भी समय चालक और ईएमटी की कर सकेंगे चेकिंग

एक चालक हो चुका टर्मिनेट : दरअसल, वर्ष 2019 में पंचकूला सरकारी अस्पताल में तैनात एक एंबुलेंस चालक मरीज को चंडीगढ़ छोड़ने के बाद वापस आ रहा था मगर रास्ते में चंडीगढ़ पुलिस ने चेकिंग के दौरान उसे नशे में पाया। जिसके बाद उसका चालान भी हुआ था। विभाग से मिली जानकारी के अनुसार मगर उस चालक ने रास्ते में दोबारा शराब का सेवन कर लिया और जब अस्पताल की टीम ने एल्कोसेंसर से चालक की चेकिंग की तो उसके शरीर में शराब के सेवन की अधिक मात्रा पाई गई। जिसके चलते विभाग ने उसे टर्मिनेट कर दिया था।

हरियाणा में अब शराब पीकर एंबुलेंस चलाई तो सीधे टर्मिनेट होंगे ड्राइवर, सरकार ने दिखाई सख्ती

इसलिए पड़ी आदेश निकालने की जरूरत वर्ष 2019 में कई एंबुलेंस हादसों का शिकार हुई। जिसमें कई बेकसूर लोगों की जान चले गई थी। हालांकि आज तक की जांच में यह साफ नहीं हो पाया है कि उन एंबुलेंस के चालक शराब पीकर वाहन चला रहे थे। मगर विभाग ने एहतियाती तौर पर एल्कोसेंसर से एंबुलेंस चालकों और ईएमटी की मेडीकल चेकिंग के निर्देश जारी कर दिए थे। हालांकि प्रदेश में 2020 में कोरोना की लहर प्रवेश कर गई थी। जिसके चलते एंबुलेंस चालकों के एल्कोसेंसर से चेकिंग के कार्य को रोक दिया गया था। चूंकि अब धूंध पड़ रही है और पूर्व से जुड़े हादसों को देखते हुए एनएचएम ने दोबारा एल्कोसेंसर से एवंलेंस चालकों और ईएमटी की मेडीकल चेकिंग के निर्देश जारी किए हैं।

प्रदेश में रेफरल प्रणाली के तहत दौड़ रही 622 एंबुलेंस

इस समय प्रदेश में रेफरल प्रणाली के तहत करीब 622 एंबुलेंस दौड़ रही हैं। अंबाला में 28, भिवानी में 26, चरखी दादरी में 19, फरीदाबाद में 26, फतेहाबाद में 25, गुरुग्राम में 36, हिसार में 32, झज्जर में 25, जींद में 30, कैथल में 24, करनाल में 30, कुरुक्षेत्र में 29, मेवात और नारनौल में 30-30, पलवल में 33, पंचकूला में 25, पानीपत में 25, रेवाड़ी में 30, रोहतक में 24, सिरसा में 35, सोनीपत में 36 और यमुनानगर में 24 एंबुलेंस दौड़ रही हैं।

हरियाणा में अब शराब पीकर एंबुलेंस चलाई तो सीधे टर्मिनेट होंगे ड्राइवर, सरकार ने दिखाई सख्ती

सभी सिविल सर्जन को एल्कोसेंसर के मार्फत एंबुलेंस चालकों और ईएमटी की मेडीकल चेकिंग के निर्देश दिए हैं। अस्पताल की टीम किसी भी समय चेकिंग कर सकेगी। अगर कोई एंबुलेंस चालक या ईएमटी ड्यूटी के दौरान शराब पीकर एंबुलेंस से मरीज को ले जाते पाया गया तो उसके खिलाफ सीधे टर्मिनेशन की कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। यह आदेश रेफर होने वाले मरीजों की सुरक्षा के मददेनजर जारी किए गए हैं।

सुबे सिंह, डिप्टी डॉयरेक्टर, एनएचएम, हरियाणा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *