पशुओं को सड़क पर छोड़ने वाले पशुपालकों पर तो होगी कार्रवाई, जारी हुए आदेश

Mukesh Gusaiana
2 Min Read
Animals on the road

Animals on the road: सड़कों पर आवारा पशुओं के घूमने के कारण अक्सर दुर्घटनाएं होती रहती हैं। ऐसे में छत्तीसगढ़ राज्य में पिछले कुछ दिनों में पशुओं के कारण सड़क दुर्घटना होने पर प्रशासन सतर्क हो गया है। राज्य के मुख्य सचिव अमिताभ जैन ने प्रदेश के अधिकारियों को इस मुद्दे को लेकर समीक्षा बैठक बुलाई है और इस घटना को लेकर अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए हैं।

पशुपालकों पर कार्रवाई होगी सड़कों पर छोड़े जाने वाले पशुओं के मालिकों को इसके बारे में सुझाव दिया जा रहा है और उन्हें पशुओं की जिम्मेदारियों के प्रति जागरूकता भी दी जा रही है। इसके बाद अगर कोई नागरिक इस गलती को फिर से करता है तो उस पर जुर्माने के साथ-साथ कठोर कानूनी कार्रवाई भी की जा सकती है। सभी जिलों के डीएम को आदेश दिया गया है कि वे अपने-अपने जिले में लोगों को इस बारे में जागरूक करें।

प्रशासन तैयारी कर रहा है इस दौरान छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले के नगरीय निकायों की बैठक में जिले को पशुओं से मुक्ति दिलाने के लिए विशेष कार्य योजना पर चर्चा की गई। इस बैठक में शहरों में घूम रहे आवारा पशुओं के खतरे को टालने के लिए जिला प्रशासन द्वारा संज्ञान लिया जाएगा। इसके साथ ही पशु पालकों के द्वारा पशुओं को बार-बार सड़कों पर छोड़े जाने के कारण की जांच भी की जाएगी और उन्हें हर संभव मदद भी प्रदान की जाएगी।

आवारा पशुओं की होगी टैगिंग दुर्ग जिले के डीएम ने सभी गौशालाओं के पशुओं की पहचान के लिए उनकी टैगिंग करने का आदेश दिया है। इस कदम से आवारा पशुओं की शहर से बाहर आवाजाही में प्रबंधन करने में आसानी होगी और उनकी पहचान करने में भी आसानी होगी। इसके साथ ही डीएम द्वारा जिले के सभी गौशालाओं में पशुओं की बढ़ती संख्या की निगरानी रखने की भी संभावना है, और पशुओं को चिकित्सा सुविधाएँ भी प्रदान कराई जा सकेंगी।

Share This Article
Follow:
मुकेश गुसाईंना (Mukesh Gusaiana) किसान केसरी में सीनियर एडिटर और इसके सस्थापक हैं. डिजिटल मीडिया में 9 साल से काम कर रहे हैं. इससे पहले जनता टाइम पर अपनी सेवाएं दे रहे थे, इन्होने अपने करियर की शुरूआत चौपाल टीवी में कंटेंट राइटिंग से की और पिछले कई सालों से लगातार ऊँचाइयों को छूते जा रहे हैं ।
Leave a comment