कृषि भूमि की ये एक कमी भारतीय बच्चों को बना रही बौना, इस तरह हुआ बड़ा खुलासा

Mukesh Gusaiana
3 Min Read

भारत में बचपन में होने वाले बौनेपन को रोकने के लिए लंबे समय तक कुपोषित रहने के कारण होने वाली समस्या का समाधान करने के लिए खेत की मिट्टी में जिंक मिलाने की संभावना है। एक अध्ययन में पाया गया है कि जब खेत की मिट्टी में जिंक मिलाया जाता है, तो यह बचपन में होने वाले बौनेपन को रोकने में मदद कर सकता है।

क्रोनिक अल्पपोषण के कारण, बच्चों के मानसिक विकास पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। शोधकर्ताओं के अनुसार, क्रोनिक अल्पपोषण के कारण बच्चों में बीमारी का खतरा बढ़ जाता है और उनकी रोजाना की जीवनशैली पर भी इसका प्रभाव पड़ता है।

हाल ही में, साइंटिफिक रिपोर्ट्स जर्नल में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, पहली बार भारत में बच्चों की पोषण स्थिति और मिट्टी में खनिज की उपलब्धता के बीच संबंध का शोध किया गया है। भारत में पांच साल से कम उम्र के एक तिहाई से अधिक बच्चे बौनेपन से पीड़ित हैं। इस अध्ययन के लिए, शोधकर्ताओं ने राष्ट्रव्यापी मृदा स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत ली गई 27 मिलियन से अधिक मिट्टी के परीक्षणों के साथ पूरे भारत में लगभग तीन लाख बच्चों तथा दस लाख महिलाओं के स्वास्थ्य डेटा का विश्लेषण किया है।

मिट्टी में खनिजों की मौजूदगी स्वास्थ्य के लिए लाभकारी

इस शोध में पता चला कि मिट्टी में जिंक की मौजूदगी बचपन में ही बौनेपन को रोकने में मदद करती है. वहीं, मिट्टी में मौजूद आयरन हीमोग्लोबिन – लाल रक्त कोशिकाओं में एक प्रोटीन जो ऑक्सीजन ले जाता है, को स्वस्थ स्तर पर रखने में मदद करता है. शोध में पता चला है कि मिट्टी में खनिजों की मौजूदगी स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है.

अध्ययन में पाया गया कि मिट्टी में जस्ते (जिंक) के नमूनों के बढ़े हुए अनुपात वाले जिलों में बच्चों में बौनापन और कम वजन की दर काफी कम पाई गई. मिट्टी जिंक की वृद्धि मानक के अनुरूप पाई गई, परीक्षणों में जिंक के अनुपात में 24.3 फीसदी की वृद्धि देखी गई, जो प्रति 1000 बच्चों में 10.8 की कमी और साथ ही बौनेपन में कमी के साथ जुड़ी हुई है. प्रति 1000 बच्चों में 11.7 में कम वजन देखा गया

Bijli Bill Mafi Yojana 2023: बीपीएल परिवारों के लिए खुशखबरी! हरियाणा में बिजली बिल माफी योजना शुरु, जानिये कैसे उठाएं फायदा ?

डीजल जनरेटर के इस्तेमाल पर लगी पाबंदी, ग्रैप नियम लागू

Toll Rate Hike : हरियाणा के इस हाईवे का सफर हुआ महंगा, बढ़ी टोल दरें, देखें नई रेट लिस्ट

हरियाणा में शुरू हुई बिजली बिल माफी योजना, जानिए कैसे उठायें लाभ

Haryana Weather Update: कब होगी हरियाणा में बारिश ? पढ़ें मौसम बुलेटिन

Share This Article
Follow:
मुकेश गुसाईंना (Mukesh Gusaiana) किसान केसरी में सीनियर एडिटर और इसके सस्थापक हैं. डिजिटल मीडिया में 9 साल से काम कर रहे हैं. इससे पहले जनता टाइम पर अपनी सेवाएं दे रहे थे, इन्होने अपने करियर की शुरूआत चौपाल टीवी में कंटेंट राइटिंग से की और पिछले कई सालों से लगातार ऊँचाइयों को छूते जा रहे हैं ।
Leave a comment